Mohabbat Kya Hai | मोहब्बत क्या है

Mohabbat!

Mohabbat Kya Hai
Ye Chalo Tumko Batata Hoon,

Jahan Tak Main Samajh Paya Hoon,
Wahan Tak hi Batata Hoon,

Mohabbat Asmano Se Utarti Ek Aayat Hai,
Mohabbat Mere Rab Ki Inayat hai,

Kahin Le Jaye Moosa Ko,
Tazalli Rab ki Dikhlane,

Kahin Mehboob ko Arshon Pe,
Apne Rab Se Milwane,

Kahin Sooli Chadhati hai,
Kisi Mansoor Sarkash ko,

Kahin Ye Baith Kar Roti Hai,
Phir Sabbir Bekas ko,

Laga Kar Aag Pani Mein,
Hawa Mein Zahar Gholegi,

Karegi Raks Sholon Par,
Magar! Kab Bhed Kholegi,

Kahin Ye Ediyan Ragde,
To Zamzam Phoot Padte Hain,

Nazar Kar De Jo Pathar Par,
To Pathar Toot Sakte Hain,

Kahin Ye Kaish Hoti Hai,
Kahin Farhad Hoti Hai,

Kahin Sar Sabz Rakhti Hai,
Kahin Barbad Hoti Hai,

Kahin Ranjhe Ki Qismat Mein,
Likhi Ek Heer Hoti Hai,

Ye Bas! Tehreer Hoti Hai,
Ye Bas! Tehreer Hoti Hai,

Mohabbat!

Mohabbat, Kahan Taqdeer Hoti Hai,
Kahan Taqdeer Hoti Hai. . !!

मोहब्बत क्या है | Mohabbat Kya Hai

मोहब्बत!

मोहब्बत क्या है
ये चलो तुमको बताता हूँ,

जहाँ तक मैं समझ पाया हूँ,
वहां तक ही बताता हूँ,

मोहब्बत आसमानो से उतरती एक आयत है,
मोहब्बत मेरे रब की इनायत है,

कहीं ले जाये मूसा को,
तजल्ली रब की दिखलाने,

कहीं महबूब को अर्शों पे,
अपने रब से मिलवाने,

कहीं सूली चढाती है,
किसी मंसूर सरकश को,

कहीं ये बैठ कर रोती है,
फिर शब्बीर बेकस को,

लगा कर आग पानी में,
हवा में ज़हर घोलेगी,

करेगी रक़्स शोलों पर,
मगर! कब भेद खोलेगी,

कहीं ये एड़ियां रगड़े,
तो ज़मज़म फूट पड़ते हैं,

नज़र कर दे जो पत्थर पर,
तो पत्थर टूट सकते हैं,

कहीं ये क़ैश होती है,
कहीं फरहाद होती है,

कहीं सर-शब्ज़ रखती है,
कहीं बर्बाद होती है,

कहीं राँझे की क़िस्मत में,
लिखी एक हीर होती है,

ये बस तहरीर होती है,
ये बस तहरीर होती है,

मोहब्बत!

मोहब्बत कहाँ तक़दीर होती है,
कहाँ तक़दीर होती है. . !!

Read More Ghazals. . .

Leave a Comment