Garmi E Hasrat E Nakam Se Jal Jate Hain | गर्मी ए हसरत ए नाकाम से जल जाते हैं

Garmi E Hasrat E Nakam Se Jal Jate Hain,
Hum Charagon Ki Tarah Sham Se Jal Jate Hain,

Bach Nikalte Hain Agar Atih-E-Saiyyad Se Hum,
Shola-E-Atish-E-Gulfam Se Jal Jate Hain,

Khudnumai to Nahin Shewa-E-Arbab-E-Wafaa,
Jin Ko Jalna Ho Woh Aaram se Jal Jate Hain,

Shama Jis Aag Mein Jalti Hai Numaish Ke Liye,
Hum Usi Aag Mein Gumnam Se Jal Jate Hain,

Jab Bhi Aata Hai Mera Naaam Tere Naam ke Sath,
Jane Kyun Log Mere Naam Se Jal Jate Hain,

Rabta Baham Pe Humein Kya Na Kahenge Dushman
Aashna Jab Tere Paigam Se Jal Jata Hai. .!!

गर्मी ए हसरत ए नाकाम से जल जाते हैं | Garmi E Hasrat E Nakam Se Jal Jate Hain

गर्मी-ए-हसरत-ए-नाकाम से जल जाते हैं
हम चरागों की तरह शाम से जल जाते हैं

बच निकलते हैं अगर अतीह-ए-सय्याद से हम
शोला-ए-आतिश-ए-गुलफाम से जल जाते हैं

खुदनुमाई तो नहीं शेवा-ए-अरबाब-ए-वफ़ा
जिन को जलना हो वो आराम से जल जाते हैं

शमा जिस आग में जलती है नुमाइश के लिए
हम उसी आग में गुमनाम से जल जाते हैं

जब भी आता है मेरा नाम तेरे नाम के साथ
जाने क्यूँ लोग मेरे नाम से जल जाते हैं

रब्ता बहम पे हमें क्या ना कहेंगे दुश्मन
आशना जब तेरे पैगाम से जल जाता है. .!!

Read More Ghazals. . .

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *