Duniya-Sitam-Yaad-Na-Apni-hi-Wafa-Yaad

Duniya Ke Sitam Yaad Na Apni Hi Wafa Yaad | दुनिया के सितम याद न अपनी ही वफ़ा याद

Duniya Ke Sitam Yaad Na Apni Hi Wafa Yaad
Ab Mujh ko Nahin Kuch Bhi Muhabbat Ke Siwa Yaad

Main Shikwa Ba-Lab Tha Mujhe Ye Bhi Na Raha Yaad
Shayad Ki Mere Bhulne Wale Ne Kiya Yaad

Chheda Tha Jise Pahli-Pahal Teri Nazar Ne
Ab Tak Hai Wo Ek Naghma-E-Be-Saz-O-Sada Yaad

Jab Koi Haseen Hota Hai Sargarm-E-Nawazish
Us Waqt Vo Kuch Aur Bhi Aate Hain Siwa Yaad

Kya Janiye Kya Ho Gaya Arbaab-E-Junoon Ko
Marne Ki Ada Yaad Na Jine Ki Ada Yaad

Muddat Huyi Ek Hadsa-E-Ishq Ko Lekin
Ab Tak Hai Tere Dil Ke Dhadakne ki Sada Yaad

Haan Haan Tujhe Kya Kaam Mere Siddat-E-Ghum Se
Haan Haan Nahin Mujko Tere Daman Ki Hawa Yaad

Main Tark-E-Rah-O-Rasm-E-Junoon Kar Hi Chuka Tha
Kyon Aa Gayi Aise Mere Teri Laghzish-E-Pa Yaad

Kya Lutf Ki Main Apna Pata Aap Bataun
Kijiye Koi Bhuli Huyi Apni Ada Yaad. .!!

Duniya-ke-sitam-yaad-na-apni-hi-wafa-yaad

दुनिया के सितम याद न अपनी ही वफ़ा याद

दुनिया के सितम याद न अपनी ही वफ़ा याद
अब मुझको नहीं कुछ भी मुहब्बत के सिवा याद

मैं शिक़वा बा-लब था मुझे ये भी न रहा याद
शायद की मेरे भूलने वाले ने किया याद

छेड़ा था जिसे पहले-पहल तेरी नज़र ने
अब तक है वो इक नग़्मा-ए-बे-साज़-ओ-सदा याद

जब कोई हसीं होता है सरगर्म-ए-नवाज़िश
उस वक़्त वो कुछ और भी आते हैं सिवा याद

क्या जानिए क्या हो गया अरबाब-ए-जुनूँ को
मरने की अदा याद न जीने की अदा याद

मुद्दत हुई इक हादसा-ए-इश्क़ को लेकिन
अब तक है तेरे दिल के धड़कने की सदा याद

हाँ हाँ तुझे क्या काम मेरे शिद्दत-ए-ग़म से
हाँ हाँ नहीं मुझ को तेरे दामन की हवा याद

मैं तर्क-ए-राह-ओ-रस्म-ए-जुनूँ कर ही चुका था
क्यूँ आ गई ऐसे में तेरी लग़्ज़िश-ए-पा याद

क्या लुत्फ़ कि मैं अपना पता आप बताऊँ
कीजिये कोई भूली हुई ख़ास अपनी अदा याद. .!!

Duniya-ke-sitam-yaad-na-apni-hi-wafa-yaad

Read More Ghazals. . .

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *