Suna-Hai-Log-Use-Aankh-Bhar-Ke-Dekhte-Hain-Ahmad-faraz-ghazal

Suna Hai Log Use Aankh Bhar Ke Dekhte Hain | सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं

Suna Hai Log Use Aankh Bhar Ke Dekhte Hain
So Us Ke Shahar Mein Kuch Din Thahar Ke Dekhte Hain

Suna Hai Rabt Hai Us ko Kharab-Halon Se
So Apne Ap Ko Barbad Kar Ke Dekhte Hain

Suna Hai Dard ki Gahak hai Chashm-E-naz us ki
So Hum Bhi us ki Gali Se Guzar ke Dekhte Hain

Suna Hai us ko bhi hai Sher-o-Shayari se Shaghaf
So ham bhi Moajize Apne Hunar Ke Dekhte Hain

Suna hai bole to Baton se phuul jhadte hain
Ye Baat Hai to Chalo Baat kar ke Dekhte Hain

Suna Hai Raat use Chand Takta Rahta Hai
Sitare Baam-E-Falak se Utar ke Dekhte Hain

Suna Hai Din ko use Titliyan Satati Hain
Suna Hai Raat ko Jugnu Thahar ke Dekhte Hain

Suna Hai Hashr Hain Us Ki Ghazal Si Aankhen
Suna Hai Us Ko Hiran Dasht Bhar ke Dekhte Hain

Suna Hai Raat se Badh kar Hain Kakulen Us Ki
Suna Hai Shaam Ko Saye Guzar Ke Dekhte Hain

Suna hai us ki siyah-chashmagi Qayamat hai
so us ko surma-farosh Aah bhar ke dekhte hain

Suna hai us ke labon se Gulab Jalte hain
So Hum Bahar pe ilzam Dhar ke dekhte hain

suna Hai Aayina Timsal hai Jabin us ki
Jo Saada Dil Hain use ban-sanwar ke dekhte hain

suna hai jab se Hamayil hain us ki Gardan Mein
Mizaj Aur hi Laal-o-guhar ke dekhte hain

suna hai chashm-e-tasavvur se dasht-e-imkan mein
Palang Zaviye us ki Kamar ke dekhte hain

suna hai us ke badan ki Tarash aisi hai
ki phul apni Qabayen Katar ke dekhte hain

Wo Sarv-Qad hai magar be-gul-e-murad nahin
ki us shajar pe shagufe samar ke dekhte hain

Bas ik nigah se lut’ta hai Qafila dil ka
So rah-ravan-e-tamanna bhi Dar ke dekhte hain

suna hai us ke shabistan se muttasil hai bahisht
makin udhar ke bhi jalve idhar ke dekhte hain

Ruke to Gardishen us Ka Tavaf karti hain
chale to us ko zamane Thahar ke dekhte hain

kise nasib ki be-pairahan use dekhe
kabhi kabhi dar o diwar ghar ke dekhte hain

Kahaniyan hi sahi sab mubalghe hi sahi
Agar Wo Khwab hai Tabir kar ke dekhte hain

Ab us ke shahr mein Thahren ki kuuch kar Jaayen
Faraz‘ aao sitare safar ke dekhte hain. .!!

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं | Suna Hai Log Use Aankh Bhar Ke Dekhte Hain

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं
सो उस के शहर में कुछ दिन ठहर के देखते हैं

सुना है रब्त है उस को ख़राब-हालों से
सो अपने आप को बरबाद कर के देखते हैं

सुना है दर्द की गाहक है चश्म-ए-नाज़ उस की
सो हम भी उस की गली से गुज़र के देखते हैं

सुना है उस को भी है शेर ओ शाइरी से शग़फ़
सो हम भी मो’जिज़े अपने हुनर के देखते हैं

सुना है बोले तो बातों से फूल झड़ते हैं
ये बात है तो चलो बात कर के देखते हैं

सुना है रात उसे चाँद तकता रहता है
सितारे बाम-ए-फ़लक से उतर के देखते हैं

सुना है दिन को उसे तितलियाँ सताती हैं
सुना है रात को जुगनू ठहर के देखते हैं

सुना है हश्र हैं उस की ग़ज़ाल सी आँखें
सुना है उस को हिरन दश्त भर के देखते हैं

सुना है रात से बढ़ कर हैं काकुलें उस की
सुना है शाम को साए गुज़र के देखते हैं

सुना है उस की सियह-चश्मगी क़यामत है
सो उस को सुरमा-फ़रोश आह भर के देखते हैं

सुना है उस के लबों से गुलाब जलते हैं
सो हम बहार पे इल्ज़ाम धर के देखते हैं

सुना है आइना तिमसाल है जबीं उस की
जो सादा दिल हैं उसे बन-सँवर के देखते हैं

सुना है जब से हमाइल हैं उस की गर्दन में
मिज़ाज और ही लाल ओ गुहर के देखते हैं

सुना है चश्म-ए-तसव्वुर से दश्त-ए-इम्काँ में
पलंग ज़ाविए उस की कमर के देखते हैं

सुना है उस के बदन की तराश ऐसी है
कि फूल अपनी क़बाएँ कतर के देखते हैं

वो सर्व-क़द है मगर बे-गुल-ए-मुराद नहीं
कि उस शजर पे शगूफ़े समर के देखते हैं

बस इक निगाह से लुटता है क़ाफ़िला दिल का
सो रह-रवान-ए-तमन्ना भी डर के देखते हैं

सुना है उस के शबिस्ताँ से मुत्तसिल है बहिश्त
मकीं उधर के भी जल्वे इधर के देखते हैं

रुके तो गर्दिशें उस का तवाफ़ करती हैं
चले तो उस को ज़माने ठहर के देखते हैं

किसे नसीब कि बे-पैरहन उसे देखे
कभी कभी दर ओ दीवार घर के देखते हैं

कहानियाँ ही सही सब मुबालग़े ही सही
अगर वो ख़्वाब है ताबीर कर के देखते हैं

अब उस के शहर में ठहरें कि कूच कर जाएँ
फ़राज़‘ आओ सितारे सफ़र के देखते हैं. .!!

Read More Ghazals. . .

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *