Mirza-Ghalib-Shayari-hindi

Mirza Ghalib Shayari on Love in Hindi | मिर्ज़ा ग़ालिब बेहतरीन शायरी हिंदी

Mirza Ghalib Shayari: Friends आज हम आप लोगों के लिए Mirza Ghalib Shayari on Love Best Collection लेकर आये हैं। मिर्ज़ा ग़ालिब मुगल काल के आखिरी महान कवि और शायर माने जाते हैं। मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी के दीवाने सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि पूरी में हैं। मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी लोगों के दिलों को छू लेती है।

आज हम आपको अपने इस Post में मिर्ज़ा ग़ालिब के उन Shayari का Collection ले कर आये हैं, जो बहुत ही मशहूर Mirza Ghalib Shayari हैं। जिनको पूरी दुनिया में उर्दू-हिंदी जानने और समझने वाले पसंद करते हैं।

Mirza Ghalib shayari in Hindi

Har Ek Baat Pay Kehty Ho Tum Kii Tu Kyaa Haii,
Tumhii Kaho Kii Ye Andaaz-E-Guftagu Kyaa Haii. .!!

हर एक बात पे कहते हो Tum कि तू क्या है,
तुम्हीं कहो कि ये Andaaz-E-Guftagu क्या है. .!!

Merey Barey Mein Koyi Ray Mat Banana ‘Ghalib’
Meraa Waqt Bhii Badlegaa Terii Ray Bhii . .!!

मेरे बारे में कोई राय मत बनाना ‘Ghalib’
मेरा Waqt भी बदलेगा तेरी राय भी. .!!

Bewazhaa Nahin Rotaa Ishq Mein Koyii ‘Ghalib’
Jisey Khud Se Badh Kar Chaaho Woh Rulataa Zaroor Haii . .!!

बेवजह नहीं रोता इश्क़ में कोई ‘Ghalib
जिसे खुद से बढ़ कर चाहो वो रुलाता Zaroor है. .!!

Ishq Par Zorr Nahin Haii Yeh Woh Aatish ‘Galib’
Kii Lagaye Naa Lagey Aur Bujhaaye Naa Baney. .!!

इश्क़ पर जोर नहीं है ये वो Aatish ग़ालिब,
कि लगाए न लगे और Bujhaaye न बने. .!!

Aaya Haii Bekasii-E-Ishq Pe Ronaa ‘Ghalib’
Kiske Ghaar Jayegaa Sailaab-E-Bala Merey Baad. .!!

आया है Bekasi-E-Ishq पे रोना ग़ालिब,
किसके Ghar जायेगा सैलाब-ए-बला मेरे बाद. .!!

Mirza Ghalib Shayari in Hindi 2 Lines

Ishq Sey Tabiyaat Ney Zeest Kaa Maza Payaa,
Dard Kii Dawaa Payii Dard Be-Dawaa Payaa. .!!

इश्क से तबियत ने जीस्त का Mazaa पाया,
दर्द की दवा पाई दर्द Be-Dawaa पाया. .!!

Julaa Haii Zism Jahan Dil Bhii Jal Gayaa Hogaa,
Kuredtey Ho Jo Ab Raakh Justaaju Kyaa Haii..

जला है जिस्म जहाँ Dil भी जल गया होगा,
कुरेदते हो जो अब राख Justaaju क्या है. .!!

Ye Naa Thii Hamarii Kismat Kii Visaal-E-Yaar Hotaa,
Agar Aur Jeetey Rahtey Yahii Intezaar Hotaa. .!!

ये न थी हमारी Kismat कि विसाल-ए-यार होता,
अगर और जीते रहते यही Intezaar होता. .!!

Mirza Ghalib Shayari in Hindi Rekhta

Mohabbat Mein Nahin Haii ‘Fark’ Jiiney Aur Marney Kaa,
Usii Ko Dekh Kar Jiitey Hain Jis Kaafiir Pe Damm Nikale. .!!

Mohabbat में नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का,
उसी को देख कर जीते हैं जिस Kaafiir पे दम निकले. .!!

Ishrat-E-Katraa Haii Dariyaa Mein Fanaa Ho Janaa,
Dard Ka Hadd Se Guzarnaa Haii Dawaa Ho Janaa. .!!

इशरत-ए-क़तरा है Dariyaa में फ़ना हो जाना,
दर्द का हद से गुज़रना है Dawaa हो जाना. .!!

Ranj Say Khoogar Huaa Insaan Toh Mitt Jataa Haii Ranj,
Mushkiilein Mujh Par Padii Itnii Kii Asaan Ho Gayii. .!!

Ranj से ख़ूगर हुआ इंसाँ तो मिट जाता है रंज,
Mushkiilein मुझ पर पड़ीं इतनी कि आसाँ हो गईं. .!!

Mirza ghalib shayari on Love

Un Ky Dekhey Se Jo Aa Jatii Haii Muh Parr Raunak,
Woh Samajhtey Haiin Kii Bimaar Ka Haal Achhaa Haii. .!!

उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पर Raunak,
वो समझते हैं कि Bimaar का हाल अच्छा है. .!!

Haiin Aur Bhii Duniyaa Mein Sukhanwar Bahut Achhey,
Kehtey Haiin Kii ‘Ghalib’ Ka Hai Andaaz-E-Bayaan Aurr. .!!

हैं और भी दुनिया में Sukhanawar बहुत अच्छे,
कहते हैं कि ग़ालिब का है Andaaz-E-Bayaan और. .!!

Hum Ney Manaa Ki Taghaful Na Karogey Lekiin,
Khaak Ho Jayengey Hum Tum Ko Khabar Hony Tak. .!!

हम ने माना कि Taghaful न करोगे लेकिन,
Khaak हो जाएँगे हम तुम को ख़बर होते तक . .!!

Mirza Ghalib Shayari on Life

Fikr-E-Duniyaa Mein Sar Khapataa Hoon,
Maiin Kahan Aur Yeh Wabaal Kahan. .!!

Fikr-E-Duniyaa में सर Khapataa हूँ,
मैं कहाँ और ये Wabaal कहाँ !!

Dil Ganwaara Nahin Kartaa Shikast-E-Ummeed,
Har Tagaful Pe Nawaziish Ka Gumaan Hota Hai. .!!

दिल गंवारा नहीं करता Shikast-E-Ummeed,
हर तगाफुल पे Nawaziish का गुमां होता है. .!!

Aayinaa Dekhh Apnaa Saa Munh Le Ke Rah Gaye,
Sahab Ko Dil Na Deney Pe Kitnaa Guroor Thaa. .!!

Aayinaa देख के अपना सा मुँह लेके रह गए,
साहब को दिल न देने पे कितना Guroor था. .!!

Best Mirza Ghalib Shayari in Hindi

Koyii Mere Dil Se Puche Tirii Tir-E-Neem-Kash Ko,
Ye Khalish Kahan Sey Hotii Jo Jiigar Ke Paar Hotaa. .!!

कोई मेरे दिल से पूछे तिरे Tir-E-Neem-Kash को,
ये Khalish कहाँ से होती जो जिगर के पार होता. .!!

Mohabbat Mein Unkii Anaa Ka Pass Rakhty Haiin,
Hum Jaankar Aksar Unhe Naraaz Rakhty Haiin. .!!

Mohabbat में उनकी अना का पास रखते हैं,
हम जानकर अक्सर उन्हें Naraaz रखते हैं !!

Arz-E-Niyaaz-E-Ishq Ke Qaabil Nahin Rahaa,
Jis Dil Pe Naaz Tha Mujhy Woh Dil Nahin Rahaa. .!!

अर्ज़-ए-नियाज़-ए-इश्क़ के Qaabil नहीं रहा,
जिस दिल पे Naaz था मुझे वो दिल नहीं रहा. .!!

Famous Mirza Ghalib Shayari

Dil-E-Nadaan Tujhey Hua Kyaa Haii,
Aakhiir Iss Dard Ki Dawaa Kyaa Haii. .?

Dil-E-Nadaan तुझे हुआ क्या है,
आखिर इस दर्द की Dawaa क्या है. .?

Ishq Ney ‘Ghalib’ Nikammaa Kar Diyaa,
Warnaa Hum Bhii Aadmii They Kaam Ke. .!!

Ishq ने ‘ग़ालिब’ निकम्मा कर दिया,
वर्ना हम भी Aadmii थे काम के. .!!

Terey Waade Par Jiiye Hum Toh Yeh Jaan Jhoot Janaa,
Kii Khushii Se Marr Naa Jaatey Agar Aitbaar Hotaa. .!!

तेरे Waade पर जिये हम तो यह जान,झूठ जाना,
कि ख़ुशी से मर न जाते अगर Aitbaar होता. .!!

Puchtey Hain Woh Kii ‘Ghalib’ Kaun Haii,
Koyii Batlaoo Kii Hum Batlayen Kyaa. .??

पूछते हैं वो कि ‘Ghalib’ कौन है,
कोई बतलाओ कि Hum बतलाएँ क्या. .??

Thii Khabar Garm Kii ‘Ghalib’ Ke Udengey Purze,
Dekhney Hum Bhii Gaye Thhey Pa Tamashaa Naa Huaa. .!!

थी ख़बर गर्म कि ‘Ghalib’ के उड़ेंगे पुर्ज़े,
देखने हम भी गए थे प Tamashaa न हुआ. .!!

Best Mirza Ghalib Shayari

Ghalib-E-Khastaa Ke Bagaiir Kaun Se Kaam Band Haiin,
Roiiye Zarr-Zarr Kyaa Kijiiye Haye Haye Kyonn. .!!

‘ग़ालिब’-ए-ख़स्ता के Bagaiir कौन से काम बंद हैं,
रोइए ज़ार ज़ार क्या Kijiiye हाए हाए क्यूँ. .!!

Saadiq Hoon Apne Kaul Ka ‘Ghalib’ Khudaa Gawaah,
Kehtaa Hoon Sach Jhuut Ki Aadat Nahiin Mujhey. .!!

सादिक़ हूँ अपने क़ौल का ‘Ghalib’ ख़ुदा गवाह,
कहता हूँ सच कि झूट की Aaddat नहीं मुझे. .!!

Dil Se Terii Niigaah Jiigar Tak Utar Gayii,
Dono Ko Ek Adaa Mein Razaamand Kar Gayii. .!!

दिल से तेरी Niigaah जिगर तक उतर गयी,
दोनों को एक अदा में Razaamand कर गयी. .!!

Dard Jab Dil Mein Ho Toh Dawaa Kijiiye,
Dil Hii Jab Dard Ho Toh Kyaa Kijiiye. .!!

दर्द जब दिल में तो Dawaa कीजिये,
दिल ही जब दर्द हो तो Kyaa कीजिये। .!!

Na Thaa Kuchh Toh Khudaa Thaa,
Kuch Na Hotaa Toh Khudaa Hotaa,
Duboyaa Mujh Ko Hony Ney,
Naa Hota Main Toh Kyaa Hotaa. .!!

न था कुछ तो Khudaa था,
कुछ न होता तो Khudaa होता,
Duboyaa मुझ को होने ने,
ना होता मैं तो Kyaa होता. !!

Read More Shayari. . .

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *