Koi-Aisa-Jaadu-Tonaa-Kar

Koi Aisa Jadu Tona Kar, Urdu Ghazal in Hindi

Koi Aisa Jadu Tona Kar
Mere Ishq Mein Wo Deewana Ho,
Yoon Ulat Palat Kar Gardish Ki
Main Shama Wo Parwana Ho,

Zara Dekh Ke Chaal Sitaaro’n Ki
Koi Zaaicha Kheench Qalandar Sa,
Koi Aisa Jantar Mantar Padh
Jo Kar De Bakht Sikandar Sa,

Koi Chilla Aisa Kaat, Ke Phir
Koi Us Ki Kaat Na Kar Paaye,
Koi Aisa De Ta’aveez Mujhe
Wo Mujh Par Aashiq Ho Jaaye,

Koi Faal Nikaal Karishma-gar
Meri Raah Mein Phool Gulaab Aayein,
Koi Paani Phoonk Ke De Aisa
Wo Piye To Mere Khwaab Aayein,

Koi Aisa Kaala Jaadu Kar
Jo Jag’mag Kar De Mere Din,
Wo Kahe Mubarak Jaldi Aa
Ab Jiya Na Jaaye Tere Bin,

Koi Aisi Rah Pe Daal Mujhe
Jis Rah Se Wo Dildaar Mile,
Koi Tasbeeh Dam Durood Bata
Jise Padhun To Mera Yaar Mile,

Koi Qaabu Kar Be’qaabu Jinn
Koi Saanp Nikaal Pitaari Se,
Koi Dhaaga Kheench Paraande Ka
Koi Manka Ikshadhaari Se,

Koi Aisa Bol Sikha De Na
Wo Samjhe Khush’guftaar Hoon Main,
Koi Aisa Amal Kara Mujh Se
Wo Jaane Jaa’n-e-nisaar Hoon Main,

Koi Dhundh Ke Wo Kastoori La
Usey Lage Main Chaand Ke Jaisa Hoon,
Jo Marzi Mere Yaar Ki Hai
Usey Lage Main Bilkul Waisa Hoon,

Koi Aisa Ism-e-aazam Padh
Jo Ashk Baha De Sajdo’n Mein,
Aur Jaise Tera Daawa Hai
Mahboob Ho Mere Qadmo’n Mein,

Par Aamil Ruk, Ek Baat Kahun
Ye Qadmo’n Waali Baat Hai Kya,
Mahboob To Hai Sar Aankho’n Par
Mujh Patthar Ki Auqaat Hai Kya,

Aur Aamil Sun, Ye Kaam Badal
Ye Kaam Bahut Nuqsaan Ka Hai,
Sab Dhaage Us Ke Haath Mein Hain
Jo Maalik Kul Jahaan Ka Hai.!!

कोई ऐसा जादू टोना कर | Koi Aisa Jadu Tona Kar

कोई ऐसा जादू टोना कर
मेरे इश्क़ में वो दीवाना हो,
यूँ उलट पलट कर गर्दिश की
मैं शमा वो परवाना हो,

ज़रा देख के चल सितारों की
कोई जायीचा खींच क़लन्दर सा,
कोई ऐसा जंतर मंतर पढ़
जो कर दे बख्त सिकंदर सा,

कोई छिल्ला ऐसा काट के फिर
कोई उसकी काट न कर पाये,
कोई ऐसा दे तावीज़ मुझे
वो मुझ पर आशिक हो जाये,

कोई फाल निकाल करिश्मा-गर
मेरी राह में फूल गुलाब आयें,
कोई पानी फूँक के दे ऐसा
वो पियें तो मेरे ख़्वाब आयें,

कोई ऐसा कला जादू कर
जो जगमग कर दे मेरे दिन,
वो कहे मुबारक़ जल्दी आ
अब जिया न जाये तेरे बिन,

कोई ऐसी राह पे दाल मुझे
जिस राह से वो दिलदार मिले,
कोई तस्बीह दम-दरूद बता
जिसे पढूं तो मेरा यार मिले,

कोई काबू कर बेकाबू जिन
कोई साँप निकल पिटारी से,
कोई धागा खींच परांदे का
कोई मनका इच्छाधारी से,

कोई ऐसा बोल सीखा देना
वो समझे खुश-गुफ़्तार हूँ मैं,
कोई ऐसा अमल करा मुझसे
वो जाने जांनिसार हूँ मैं,

कोई ढूंढ़ के वो कस्तूरी ला
उसे लगे मैं चाँद के जैसा हूँ,
जो मर्ज़ी मेरे यार की है
उसे लगे मैं बिलकुल वैसा हूँ,

कोई ऐसा इस्मे-ए-आज़म पढ़
जो अश्क़ बहा दे सज़्दों में,
और जैसा तेरा दावा है
मेहबूब हो मेरे क़दमों में,

पर आमिल रूक एक बात कहूँ
ये क़दमों वाली बात है,
मेहबूब तो है सर-आँखों पर
मुझ पत्थर की औकात है क्या,

और आमिल सुन, ये काम बदल
ये काम बहुत नुक़सान का है,
सब धागे उसके हाथ में हैं
जो मालिक कुल जहाँ का है. . !!

Read More Ghazals. . .

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *