Kabhi-Arsh-Par-Kabhi-Farsh-Par

Kabhi Arsh Par Kabhi Farsh Par | कभी अर्श पर कभी फर्श पर

Kabhi Ruk Gaye Kabhi Chal Diye
Kabhi Chalte Chalte Bhatak Gaye

Yunhi Umar Saari Guzaar Di
Yunhi Zindagi Ke Sitam Sahe

Kabhi Nind Mein Kabhi Hosh Mein
Tu Jahan Mila Tujhe Dekh Kar

Na Nazar Mili Na Zuban Hilii
Yunhi Sar Jhuka Ke Guzar Gaye

Kabhi Zulf Par Kabhi Chashm Par
Kabhi Tere Haseen Wajood Par

Jo Pasand Thay Meri Kitab Mein
Woh Sher Saray Bikhar Gaye

Mujhe Yaad Hai Kabhi Ek The
Magar Aj Hum Hain Juda Juda

Woh Juda Huye To Sanwar Gaye
Hum Juda Huye To Bikhar Gaye

Kabhi Arsh Par Kabhi Farsh Par
Kabhi Unke Dar Kabhi Dar Badar

Ghum-E-Aashiqi Tera Shukriya
Hum Kahan Kahan Se Guzar Gaye. .!!

कभी अर्श पर कभी फर्श पर | Kabhi Arsh Par Kabhi Farsh Par

कभी रुक गए कभी चल दिये
कभी चलते चलते भटक गये

यूँही उम्र सारी गुज़ार दी
यूँही ज़िन्दगी के सितम सहे

कभी नींद में कभी होश में
तू जहाँ मिला तुझे देख कर

न नज़र मिली न ज़ुबान हिली
यूँहीं सर झुका के गुज़र गये

कभी ज़ुल्फ़ पर कभी चश्म पर
कभी तेरे हसीं वज़ूद पर

जो पसंद थे मेरी किताब में
वो शेर सारे बिख़र गए

मुझे याद है कभी एक थे
मगर आज हम हैं जुदा जुदा

वो जुदा हुये तो संवर गये
हम जुदा हुये तो बिखर गए

कभी अर्श पर कभी फ़र्श पर
कभी उनके दर कभी दर-बदर

ग़म-ए-आशिकी तेरा शुक्रिया
हम कहाँ कहाँ से गुज़र गये. .!!

Read More Ghazal & Shayari. . .

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *