Hazaron-Khwahishen-Aisi-ki-Har-Khwahish-Pe-Dam-Nikle

Hazaron Khwahishen Aisi ki Har Khwahish Pe Dam Nikle

Hazaron Khwahishen Aisi ki Har Khwahish Pe Dam Nikle
Bahut Nikale Mere Arman Lekin Phir Bhi Kam Nikale

Dare Kyon Mera Qaatil Kya Rahega Us Ki Gardan Par
Woh Khoon Jo Chashm-E-Tar Se Umar Bhar Yoon Dam-Ba-Dam Nikle

Nikalna Khuld Se Aadam Ka Sunte Aaye Hain Lekin
Bahut Be-Abru Ho Kar Tere Kuche Se Hum Nikle

Bharam Khul Jaye Zalim Tere Qamat Ki Darazi Ka
Agar is Turra-E-Pur-Pech-O-Kham Ka Pech-O-Kham Nikle

Magar Likhwaye Koi Us Ko Khat To Hum Se Likhwaye
Huyi Subah Aur Ghar Se Kaan Par Rakh Kar Kalam Nikle

Huyi is Daur Mein Mansub Mujhse Bada-Ashami
Phir Aaya Wo Zamana Jo Jahan Mein Jaam-E-Jam Nikle

Huyi Jin se ‘Tawaqqo’ Khastagi Ki Dad Pane Ki
Woh Hum Se Bhi Zyada Khasta-E-Tegh-E-Sitam Nikle

Mohabbat Mein Nahin Hai Farq Jine Aur Marne Ka
Usi Ko Dekh Kar Jite Hain Jis Kafir Pe Dam Nikle

Kahan Mai-Khane Ka Darwaza ‘Ghailb‘ Aur Kahan Vaa’iz
Par Itna Jante Hain Kal Woh Jata Tha Ki Hum Nikle

हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पे दम निकले | Hazaron Khwahishen Aisi ki Har Khwahish Pe Dam Nikle

हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पे दम निकले
बहुत निकले मिरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले

डरे क्यूँ मेरा क़ातिल क्या रहेगा उस की गर्दन पर
वो ख़ूँ जो चश्म-ए-तर से उम्र भर यूँ दम-ब-दम निकले

निकलना ख़ुल्द से आदम का सुनते आए हैं लेकिन
बहुत बे-आबरू हो कर तिरे कूचे से हम निकले

भरम खुल जाए ज़ालिम तेरे क़ामत की दराज़ी का
अगर इस तुर्रा-ए-पुर-पेच-ओ-ख़म का पेच-ओ-ख़म निकले

मगर लिखवाए कोई उस को ख़त तो हम से लिखवाए
हुई सुब्ह और घर से कान पर रख कर क़लम निकले

हुई इस दौर में मंसूब मुझ से बादा-आशामी
फिर आया वो ज़माना जो जहाँ में जाम-ए-जम निकले

हुई जिन से तवक़्क़ो’ ख़स्तगी की दाद पाने की
वो हम से भी ज़ियादा ख़स्ता-ए-तेग़-ए-सितम निकले

मोहब्बत में नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का
उसी को देख कर जीते हैं जिस काफ़िर पे दम निकले

कहाँ मय-ख़ाने का दरवाज़ा ‘ग़ालिब’ और कहाँ वाइ’ज़
पर इतना जानते हैं कल वो जाता था कि हम निकले

Read More Ghazals. . .

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *