Gulzar Shayari in Hindi Collection | Gulzar Poetry in Hindi – 2021

Gulzar Shayari in Hindi: Hello Friends आज हम आपके लिए लेकर आये हैं Gulzar Shayari in Hindi Collection, & Gulzar Poetry in Hindi Collection. यहाँ आप गुलज़ार साहब की कुछ चुनिन्दा और बेहतरीन शायरी का लुत्फ़ उठा सकते हैं। इस Post में आप पढ़ सकेंगे गुलज़ार साहब के द्वारा लिखे गए Gulzar Shayari in Hindi, Gulzar Poetry in Hindi, Gulzar Quotes, Gulzar Sahyari On Life, etc.

आज के वक़्त में गुलज़ार के नाम से कौन वाक़िफ़ नहीं है। लोगों ने उनकी बनाई Films देखीं, उनके Dialogue सुने और उनके लिखे Songs को भी भरपूर प्यार दिया। इन सब के अलावा Gulzar साहब एक शायर भी हैं। और आज हम गुलज़ार साहब के द्वारा लिखी गयी कुछ बेतरीन और उम्दा Shayari का मज़ा लेते हैं।

Best Gulzar Shayari in Hindi | Gulzar’s Special Shayari in Hindi

Aankhon Se Aanshuon^Me Marasim^Purane Hain,
Mehman Yeh Ghar Mein^Aayen To^Chubhta Nahin Dhuan. .!!

आँखों से आँसुओं के मरासिम Puraane हैं
मेहमाँ ये घर में आएँ तो Chubhta^नहीं धुआँ. .!!

Yoon Bhi Ek Baar^To Hota Ki^Samundar Bahta,
Koi Ahsaas To^Dariyaa^Ki Anaa Ka Hotaa. .!!

यूँ भी इक बार तो होता कि Samundar बहता
कोई एहसास तो Dariyaa की अना का होता. .!!

Aap Ke Baad Har^Ghadi Hum^Ne,
Aap Ke Saath Hii Guzaari Haii. .!!

आप के बाद हर घड़ी Hum ने
आप के साथ ही Guzaari है. .!!

Gulzar Shayari Love in Hindi | Gulzar Shayari in Hindi On Love

Hum Ne Aksar^Tumharii Raahon^Mein,
Ruk Kar^Apnaa Hii^Tntezaar Kiya. .!!

हम ने अक्सर तुम्हारी Raahon में,
रुक कर अपना ही Itnezaar किया. .!!

Phir Wahin Laut Ke Janaa Hogaa,
Yaar Ne Kaisi^Rihaai Dii^Haii. .!!

फिर Wahin लौट के जाना होगा,
Yaar ने कैसी रिहाई दी है. .!!

Bahut Under^Tak Jalaa^Deti Hain,
Woh^Shikayaten Jo^Bayaan Nahin Hotii. .!!

बहुत अंदर तक Jalaa देती हैं,
वो शिकायते जो Bayan नहीं होती. .!!

Maine Dabii Awaaz Mein^Pucha ‘Mohabbat’ Karne Lagii Ho?
Nazarein Jhukaa^Kar^Woh Bolii Bahut. .!!

मैंने दबी आवाज़ में पूछा ‘Mohabbat’ करने लगी हो?
नज़रें झुका कर Woh बोली! बहुत. .!!

Koi Puch Rahaa Hai^Mujhse^Zindagii Ki^Keemat,
Mujhe Yaad Aa^Rahaa^Hai Teraa Halke Se Muskuranaa. .!!

कोई पुछ रहा है मुझसे मेरी जिंदगी की Keemat,
मुझे याद आ रहा है तेरा Halke से मुस्कुराना. .!!

Gulzar Shayari in Hindi 2 Lines

Din Kuch Aise^Guzaarta^Haii Koii,
Jaise Ahsaan^Utaarta Hai Koii. .!!

दिन कुछ Aise गुज़ारता है कोई,
जैसे Ahsaan उतारता है कोई. .!!

Aayina Dekh^Kar^Tasallii^Huyi,
Hum Ko Is Ghar^Mein Janta^Hai Koii. .!!

आइना Dekh कर तसल्ली हुई
हम को इस घर में Janta है कोई. .!!

Tumharii Khusk Si Aankhen^Bhalii Nahin^Lagti,
Woh Saarii^Cheezen Jo^Tum Ko Rulaayen Bhejii Hain. .!!

तुम्हारी ख़ुश्क सी आँखें Bhali नहीं लगती
वो सारी चीज़ें जो तुम को रुलाएँ, Bheji हैं. .!!

Gulzar Shayari on Khamoshi

kitnii Lambii^Khamoshii Se Guzraa Hoon,
Un Se Kitna Kuchh Kahne^Kii Koshish Kii. .!!

कितनी लम्बी ख़ामोशी से Guzaraa हूँ
उन से कितना कुछ कहने की Koshish की. .!!

Khamoshi Ka^Hasil^Bhii Ke^Lambii Khamoshii Thi,
Un Ki Baat Sunii Bhi^Humne Apni Baat Sunayii Bhi. .!!

ख़ामोशी का हासिल भी इक Lambii^सी ख़ामोशी थी,
उन की बात सुनी भी हमने^अपनी बात Sunayii भी. .!!

Meri Khamoshii Mein^Sannata^Bhi Hai Shor Bhi Hai,
Tune Dekhaa Hi Nahin Aankhon Mein Kuch Aur Bhi Haia. .!!

मेरी Khamoshii मे सन्नाटा भी है^शोर भी है,
तुने देखा ही नही, आखों में कुछ Aur^भी है. .!!

Gulzar Shayari on Life in Hindi

जो जाहिर हो जाए वह Dard कैसा,
और जो दर्द को महसूस ना कर सका वह Humdard कैसा. .!!

Jo Zahir Ho Jaye^Woh Dard^Kaisaa,
Aur Jo Dard Ko^Mehsoos Naa Kar^Saka Woh Humadard Kaisaa. .!!

Haath Chhute Bhi To^Ristey Nahin^Chhoda Karte,
Waqt Ki^Shakh Se Lamhe^Nahin Todaa Karte. .!!

हाथ छूटे भी तो Ristey नहीं छोड़ा करते,
वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं Todaa करते. .!!

Zamin Sa Dusra Koi^Shakhii Kahan Hoga,
Zara Saa^Beej^Uthaa Le Toh Ped Detii Hai. .!!

ज़मीं सा दूसरा कोई सख़ी Kahan होगा,
ज़रा सा बीज उठा ले तो पेड़ Detii है. .!!

Kal Ka^Har Wakiyaa^Tumharaa Tha,
Aaj^Ki Dastaan^Hamarii Hai. .!!

कल का हर वाक़िआ Tumhara था
आज की दास्ताँ Humarii है. .!!

Kayii Si Jam^Gayi Hai^Aankhon Par,
Saaraa Manzar^Hara Saa^Rahta Hai. .!!

काई सी जम गई है Aankhon पर
सारा मंज़र हरा सा Rahta है. .!!

Gulzar Shayari in Hindi 2 Lines

Kanch Ke Piche Chaand Bhii Thaa Aur Kanch Ke Upar Kayii Bhi,
Tino The Hum Woh Bhi The Aur Main Bhii Tha Tanhaii Bhii. .!!

काँच के पीछे चाँद भी था और Kanch के ऊपर काई भी
तीनों थे Hum वो भी थे और मैं भी था तन्हाई भी. .!!

Khuli Kitaab^Ke Safhe^Ulat’te Rahte Hain,
Hawaa Chale^Na Chale^Din Palat’te Rahte Hain. .!!

खुली किताब के सफ़्हे उलटते Rahte हैं,
हवा चले न चले Diin पलटते रहते है. .!!

Shaam^Se Aankh Mein^Namii Si Hai,
Aaj Phir^Aap Ki Kamii^Si Hai. .!!

शाम से आँख में Namii सी है,
आज फिर Aap की कमी सी है. .!!

Woh Umar^Kam Kar^Rahaa Tha Merii,
Main Saal Apne^Badhaa^Rahaa Thaa. .!!

वो उम्र कम कर रहा था Merii,
मैं Saal अपने बढ़ा रहा था. .!!

Uthaye Phirte^The Ahsaan Jism^Ka Jaan Par,
Chale Jahan^Se To Ye^Pairahan Utaar Chale. .!!

उठाए फिरते थे एहसान Jism का जाँ पर
चले जहाँ से तो ये पैरहन Utaar चले. .!!

Gulzar Famous Shayari in Hindi

Sahar Na Aayii Kai Baar Nind Se Jaage,
Thi Raat^Raat Ki Ye^Zindagii Guzaar^Chale. .!!

सहर न आई कई बार Nind से जागे,
थी रात Raat की ये ज़िंदगी गुज़ार चले. .!!

Koi Na^Koi Rahbar Rastaa Kaat^Gaya,
Jab Bhii Apni^Raah Chalne Ki^Koshish Kii. .!!

कोई न कोई रहबर रस्ता काट Gaya,
जब भी अपनी रह Chalne की कोशिश की. .!!

Koii Atkaa^Huya Hai^Pal Shayad,
Waqt Mein^Pad Gaya Hai^Bal Shayad. .!!

कोई अटका हुआ है Pal शायद
Waqt में पड़ गया है बल शायद. .!!

Aa Rahii^Hai Jo^Chap Qadmon Kii,
Khil Rahe^Hain^Kahin Kanwal Shayad. .!!

आ Rahii है जो चाप क़दमों की
खिल रहे हैं कहीं कँवल Shayad. .!!

Read More Shayari. . .

Leave a Comment